July 21, 2019

आइये जाने उस शख्स के बारे में जो न होता तो दुनिया ही खत्म हो गयी होती!

यह शख्स न होता तो दुनिया ही खत्म हो गयी होती

इस शख्स की तस्वीर देख आप शायद इसे पहचान न पाएं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अगर यह शख्स न होता तो शायद आज यह दुनिया भी नहीं होती? इसने न जाने कितने अरब लोगों और कितनी सभ्यताओं को बचाया। इस शख्स का नाम है स्तेनिस्लाव पेत्रोव, जोकि रूस के कर्नल थे। 

गलत अलार्म पर सही ऐक्शन, बच गयीं अरबों जान

स्तेनिस्लाव पेत्रोव ने अपनी समझदारी दिखाते हुए दुनिया को तीसरे विश्व युद्ध के खतरे से बचाया था। उनके लिए एक अहम फैसले ने अमेरिका और रूस के बीच परमाणु युद्ध को टाल दिया था। उस वक्त पेत्रोव की उम्र 44 साल थी और वह रूस के परमाणु चेतावनी केंद्र पर तैनात थे। पेत्रोव की शिफ्ट खत्म होने में अभी कुछ वक्त बचा था कि तभी रडार स्क्रीन पर गलती से अलॉर्म बजने लगा और चेतावनी जारी की गयी कि अमेरिका रूस पर मिसाइलें दागने वाला है। लेकिन पेत्रोव ने होश खोने के बजाय सूझ-बूझ से काम लिया और उस सूचना को लोगों के साथ साझा करने से मना कर दिया।

ऐसे लिया था ऐक्शन

पेत्रोव को उस वक्त लगा कि वह सूचना गलत हो सकती है। कुछ सेकंड तक तो वह सोच में पड़ गए कि आखिर किया क्या जाए। इस पर उन्होंने अपने मन की आवाज सुनी और फैसला किया कि इस सूचना को बाकी लोगों व अपने सीनियरों के साथ साझा नहीं किया जाएगा।

सही साबित हुआ था वो अंदेशा

इसके बाद पेत्रोव ने सैटलाइट रडार ऑपरेटरों को फोन करके अंदेशा जताया कि अर्ली वॉर्निंग सिस्टम में कुछ तकनीकी खामी है। लेकिन जब जांच की गयी तो यह अंदेशा सही साबित हुआ। वाकई सिस्टम में कुछ गड़बड़ी थी और उसी वजह से वह गलत अलार्म और सूचना स्क्रीन पर दिख रही थी।

2017 में कह गए अलविदा

पेत्रोव ने समझदारी दिखायी और उसी का नतीजा है कि तीसरा विश्व युद्ध नहीं हुआ। उनकी वजह से दुनिया तबाह होने से बच गयी। यही वजह है कि पेत्रोव को ‘Man Who Saved The World’ के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन दुख की बात है कि दुनिया को बचाने वाले पेत्रोव 2017 में खुद ही इस दुनिया से चल बसे।
Share

You may also like...